मुख्य पृष्ठरागअंग
hero

गुरु ग्रन्थ साहिब

आदिग्रन्थ सिख समुदाय का प्रमुख धर्मग्रन्थ है। इन्हें 'गुरु ग्रंथ साहिब' भी कहते हैं। इनका संपादन सिख समुदाय के पांचवें गुरु श्री गुरु अर्जुन देव जी ने किया। गुरु ग्रन्थ साहिब जी का पहला प्रकाश 30 अगस्त 1604 को हरिमंदिर साहिब अमृतसर में हुआ। 1705 में दमदमा साहिब में दशमेश पिता गुरु गोविंद सिंह जी ने गुरु तेगबहादुर जी के 116 शब्द जोड़कर इसको पूर्ण किया, इनमे कुल 1430 पृष्ठ है।

श्रेय/अधिकार

इस पृष्ठ की सामग्री मुख्यतः निम्नलिखित स्थानों से ली गई है तथा आवश्यकतानुसार लघु त्रुटियों में संशोधन किया गया है ।

अस्वीकरण

इस पटल पर उपलब्ध सभी ग्रंथ व शास्त्र भारतीय ऋषियों, मनीषियों व ज्ञानियों की कृति होने के कारण पूरे भारतीय समाज की धरोहर है । यह संपूर्ण संकलन भिन्न भिन्न ऑनलाइन स्थानों से प्राप्त किया गया है जिनका संदर्भ संबंधित ग्रंथ/शास्त्र के पृष्ठ पर दिया गया है । वज्रकुल या वज्रसंस्कृति का उन पर किसी भी प्रकार का स्वामित्व नही है और ना ही वज्रकुल या वज्रसंस्कृति किसी सामग्री की पूर्ण शुद्धता या सटीकता का उत्तरदायित्व लेते हैं । जो भी स्वयं को उन महान पूर्वजों के वंशज व भारतीय संस्कृति की संतान मानते हैं या उस महान ज्ञान की धरोहर के अध्ययन में रूचि रखते हैं, एक ही पटल पर उपलब्ध यह सारा संकलन उनके हितार्थ वज्रकुल संस्था की ओर से तुच्छ भेंट है 🙏